रविवार, 8 सितंबर 2013

कबीरदास की कविताएँ

कबीरदास की एक कालजई रचना .........
झीनी झीनी बीनी चदरिया ॥
काहे कै ताना काहे कै भरनी,
कौन तार से बीनी चदरिया ॥ १॥
इडा पिङ्गला ताना भरनी,
सुखमन तार से बीनी चदरिया ॥ २॥
आठ कँवल दल चरखा डोलै,
पाँच तत्त्व गुन तीनी चदरिया ॥ ३॥
साँ को सियत मास दस लागे,
ठोंक ठोंक कै बीनी चदरिया ॥ ४॥
सो चादर सुर नर मुनि ओढी,
ओढि कै मैली कीनी चदरिया ॥ ५॥
दास कबीर जतन करि ओढी,
ज्यों कीं त्यों धर दीनी चदरिया ॥ ६॥



कबीर की एक और कविता है  
रहना नहीं देस बिराना है
यह संसार कागद की पुड़िया, बूँद पड़े गल जाना है।
यह संसार काँट की बारी, उलझ पुलझ मरि जाना है।।
यह संसार झाड़ और झाखर, आग लगे बरि जाना है।

कहें कबीर सुनो भाई साधो, सद्गुरु नाम ठिकाना है।।