सोमवार, 8 जून 2015

देवत्वं

देवत्व क्या है ?????
मेरे अन्दर की अच्छाई आपके अंदर की अच्छाई हम सब के अन्दर की अच्छाई.....
पर सब के अन्दर की सच्चाई क्या है ?????
देवत्व क्यों ??????
हम सही रास्ते पर चले ,जीवन में हमें दुःख न हो, भय के वक़्त हमें सहारा मिले, बिपति न आये आये तो जल्द टल जाये.......

और इतना कुछ मिले पर कोई अहसान न जताए  !!
सोचिये अगर इस्वर का हमारे जीवन में सीधा हस्तछेप हो जाये तो, अगर वो बुरे कर्मो के लिए फटकारने लगे या फिर जज की भूमिका अदा करने लगे तो ......
मेरी समझ से इस्वर का निराकार होना ही उनकी स्वीकार्यता का सबसे बड़ा कारन है ।